Tuesday, October 18, 2011

उसको अपनी तकदीर कैसे दे दूं ?
अपने ख्वाबों की हीर कैसे दे दूं ?
रुख़ बदल लेगी पास उसके जाके
उसे मैं अपनी तस्वीर कैसे दे दूं ?
क़द मेरे क़द से बड़ा है जिसका
उसको अपनी शमशीर कैसे दे दूं ?
लहजे में नरमाहट नहीं है जिसके
गुनगुनाने की उसे पीर कैसे दे दूं ?
हवा न चले जिस मौसम में कभी
खुशबु की उसे तहरीर कैसे दे दूं ?
जिसने चूमा नहीं मेरे नसीब को
उसे मैं दर्द की लकीर कैसे दे दूं ?
वफ़ा की जिसको कद्र ही नहीं है
उसे इश्क की जागीर कैसे दे दूं ?

5 comments:

  1. बहुत बढ़िया प्रस्तुति ||

    बधाई स्वीकारें ||

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  3. वाह बहुत सुन्दर ख्याल्।

    ReplyDelete
  4. वाह! बहुत ही उम्दा...
    सादर बधाई,,,,

    ReplyDelete
  5. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच-673:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    ReplyDelete