Tuesday, July 13, 2010

हर किसी को आता है आईने में चेहरा देखना.

हर किसी को आता है आईने में चेहरा देखना
हर कोई चाहता है अच्छा ही अच्छा देखना।

किसी के साथ रहना अच्छा लगता है।
कोई नहीं चाहता खुद को अकेला देखना।
बदले बिना जिंदगी एकदम ठहर जाती है।
कौन नहीं चाहता खुद को बदलता देखना।
बदलने की चाहत हर दिल में होती है पर
कोई नहीं चाहता दूसरे को बदलता देखना।
अपने आखिरी वक़्त में मजबूर न हो जाऊं
मैं चाहता हूँ तब भी खुद को चलता देखना।

2 comments: