Wednesday, May 26, 2010

जन्म दिन तो बहाना था

जन्म दिन बहाना बना तुम्हे पास बुलाने का
कुछ पल संग बैठ कर मिलने मुस्कराने का।
तुम्हारा आना दिल को अच्छा लगा बहुत
मन में आगया था कुछ सुनने सुनने का।

2 comments: