Wednesday, June 3, 2009

गरीब का मुकद्दर

कभी गरीब
प्याज ,गुड ,मिर्च से
चने -बाजरे की रोटी
खाता था ।

प्याज तो, कब का गायब
हो गया था,
उसकी थाली से !
गुड भी अब गायब
हो गया है ,
उसकी थाली से !

बाकी रह गयी- मिर्च ,
क्या यह भी कभी
गायब हो जायेगी ,
उसकी थाली से ?

शायद- नहीं ,
मिर्च, कभी गायब नही होगी ,
उसकी थाली से ,
क्योंकि, मिर्च खाने से,
आँख में आंसू आते हैं
और आंसू ही तो
गरीब का मुकद्दर है ।

9 comments:

  1. और आंसू ही तो
    गरीब का मुकद्दर है ।


    अच्छी कविता
    बधाई

    सही कहा आपने !
    वरना हम हम राणा प्रताप के वंशज तो है ही !

    आज की आवाज

    ReplyDelete
  2. कृपया वर्ड वैरिफिकेशन की कष्टकारी एवं उबाऊ प्रक्रिया हटा दें !
    यूँ लगता है मानो शुभेच्छा का भी सार्टिफिकेट माँगा जा रहा हो । इसकी वजह से पाठक प्रतिक्रिया देने में कतराते हैं !

    बहुत ही आसान तरीका :-
    ब्लॉग के डेशबोर्ड पर जाएँ > सेटिंग पर क्लिक करें > कमेंट्स पर क्लिक करें > शो वर्ड वैरिफिकेशन फार कमेंट्स > यहाँ दो आप्शन होंगे 'यस' और 'नो' बस आप "नो" पर टिक कर दें > नीचे जाकर सेव सेटिंग्स कर दें !

    ReplyDelete
  3. guptaji,
    badi gupt maar maarte hain aap.........
    bahut achhi aur sacchi kavita k liye badhaiyan__

    ReplyDelete
  4. bahut achchhaa .sachchi aur saral .swagat hai is blog pe .

    ReplyDelete
  5. आप की रचना प्रशंसा के योग्य है . आशा है आप अपने विचारो से हिंदी जगत को बहुत आगे ले जायंगे
    लिखते रहिये
    चिटठा जगत मैं आप का स्वागत है
    गार्गी

    ReplyDelete
  6. लाजवाब लगी आपकी रचना............मिर्च वाकई ख़तम नहीं होगी...........येही तो यंत्रणा है गरीबी की.............. भावनाओं से भरी रचना ...... स्वागत है आपका इस रचना के साथ

    ReplyDelete
  7. शरीफों की गरीबी में भी इज्जत कम नहीं होती, करो सोने के टुकडे सौ तो भी कीमत कम नहीं होती।

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर…..आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    ReplyDelete